Breathe: Into the Shadows (Review)

Breathe into the shadows review in hindi

Breathe into the shadows review in hindi

Breath Episode 01 (Review): Papa's Princess

IMDb 8.7/10
8.7/10

पहली झलक में :

फर्स्ट एपिसोड के पहले 5 मिनट में ही आप इस सीरीज से कनेक्ट हो जाइएगा।

रात काफी बीत चुकी है। किसी कॉलोनी की गली में, माता का जगराता चल रहा है सारे भक्तजन ब्लूटूथ हेडफोंस लगाकर बैठे ताली पीटते हुए झूम रहे हैं।

ब्लूटूथ हेडफोंस इसके लिए, ताकि जगराता के शोर से आसपास के लोगों की नींदे ना खराब हों।

पहली घटना :

भक्तों की भीड़ में मेडिकल की एक छात्रा अपना खुद का एयर फोन लगाए हुए अपनी पाठ्य पुस्तक पढ़ रही है। माता की भक्त, छात्रा की मां उसे कुमकुम लगाने आती है।

छात्रा मां से कहती है की 2 दिन बाद उसकी परीक्षा है और सुबह उसका क्लास है। इसलिए वह घर जाकर सोना चाहती है।

छात्रा जगराता की बैठक से बाहर निकल अपने घर की ओर चल देती है जो कि नजदीक में ही है।

पर शायद मां का आशीर्वाद शायद उसके हिस्से में नहीं है। और उसके साथ कुछ अप्रत्याशित घटना घटती है।

दूसरी घटना :

उसी शहर में एक और युवती “चांदनी रावत” अपने पिता, चाचा और चाची की हत्या कर देती है।

पिता गंभीर कैंसर से पीड़ित था और चाचा युवती का यौन शोषण कर रहा था। युवती मनोरोगी हो गई और अपना मानसिक संतुलन खो पिता चाचा और चाची की हत्या कर दी। ऐसा समाचार (news channels) में बताया जा रहा था।

पर एक मनोचिकित्सक डॉ अविनाश सभरवाल (अभिषेक बच्चन) की रिपोर्ट ने युवती की दिमागी हालात को सामान्य साबित किया और उसे सजा हो गई।

तीसरी घटना :

डॉ अविनाश के जीवन में सब कुछ ठीक चल रहा था। वह अपनी सेफ पत्नी “आभा” और 6 साल की प्यारी बेटी “सिया” के साथ सामान्य सुखमय जीवन बिता रहे थे।

डॉ अविनाश उनके परिवार के साथ भी कुछ ऐसी घटना घटती है जिससे उनका आने वाला जीवन असामान्य और उथल-पुथल से भरा होने वाला था।

Breathe-Amit-Sad-Kabir-Sawant

चौथी घटना :

इधर दिल्ली के जेल में एक कैदी पर घातक हमला होता है। यह कैदी कबीर सावंत है जो पहले दिल्ली क्राइम ब्रांच के साथ काम कर चुका है।

संक्षिप्त विश्लेषण: Breathe into the shadows review in hindi

पहले ही एपिसोड में चार अलग-अलग घटनाओं को दिखाया गया है पर आपको कहीं ना कहीं यह एहसास होगा। कि यह सभी घटनाएं एक दूसरे से जुड़ीं हुई हैं।

पर ये घटनाएं, कैसे और कितनी जुड़ी हुई हैं यह तो आने वाले एपिसोड्स देख कर ही मालूम चलेगा।

Breath का पहला सीज़न भी रहस्य रोमांच और अप्रत्याशित घटनाओं से भरा हुआ था जिसे दर्शकों ने खूब पसंद किया। इस सीज़न पर भी काफी मेहनत किया गया है। अमित शाद ( कबीर सावंत ) की इंट्री आपको चौंका सकती है।

Related Web Series Reviews

Related Movie Reviews

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *